भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राधा श्याम सेवैँ सदा वृन्दावन वास करैँ / हरिश्चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राधा श्याम सेवैँ सदा वृन्दावन वास करैँ,
रहैँ निहचिँत पद आस गुरुवरु के ।
चाहैँ धन धाम ना आराम सोँहै काम ,
हरिचँदजू भरोसे रहैँ नन्दराय घरु के ।
एरे नीच नृप हमैँ तेज तू देखावै काह ,
गज परवाही कबौँ होहिँ नाहिँ खरु के ।
होय ले रसाल तू भले ही जगजीव काज ,
आसी न तिहारे ये निबासी कल्प तरु के ।

हरिश्चन्द्र का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।