भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

रामचंदर जलम लेलन चइत रामनमी के / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रामचंदर जलम लेलन[1] चइत[2] रामनमी के॥1॥
डगरिन जे नेग[3] माँगइ, नार के कटाइ[4]
कोसिला के कँगन लेमो,[5] चैता रामनमी के॥2॥
नाउन[6] जे नेग माँगे, पैर के रँगाइ।
कोसिला के कँगन लेमो, चैता रामनमी के॥3॥
धोबिन जे नेग माँगे, फलिया[7] के धोबाइ[8]
कोसिला के कँगन लेमो, चैता रामनमी के॥4॥
फूआ[9] जे नेग माँगे आँख के अँजाइ[10]
कोसिला के कँगन लेमो, चैता रामनमी के॥5॥
दाई जे नेग माँगे, सौरी के झोराइ[11]
कोसिला के कँगन लेमो, चैता रामनमी के॥6॥

शब्दार्थ
  1. लिया
  2. चैत मास
  3. शुभ अवसरों पर हकदार सगे-सम्बन्धियों अथवा हजाम आदि पौनियों को दिया जाने वाला उपहार
  4. काटने का
  5. लूँगा
  6. हजामिन
  7. सेवा-लुगुरी, सुजनी-साड़ी
  8. धुलाई
  9. बुआ, फुआ
  10. आँजन करने का पुरस्कार
  11. प्रसूति-गृह की सफाई धुलाई का पारिश्रमिक