भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रामदीन / राम सेंगर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्यों का त्यों
अब भी है काँटा
रामदीन की आँख का ।

खेत चर रहीं मेंड़
भेड़ बाड़े को रौन्द रही ।
कुतर रहा नाख़ून
पेट में बिजली कौन्ध रही ।
ऋतु बदली, पर
अभी हरा है
फोड़ा उसकी काँख का ।

बिम्ब अभी मन में
सूरज का
बना हुआ काला ।
घुसा हुआ पूरा सीने में
पूँजी का भाला ।
दबा रहेगा
कब तक जाने
यह अँगारा राख का ।

ज्यों का त्यों अब भी है काँटा
रामदीन की आँख का ।