भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रामु जपि तूं श्यामु जपि तूं / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तर्ज: मार दिया जाए या छोड़ दिया जाए

रामु जपि तूं श्यामु जपि तूं
सुबह शाम प्रभूअ जो नामु जपि तूं

हीउ मानुष देही थई महांगी
कोई हलंदुइ न साणु तो सां सांगी
पंहिंजो वक़्त न विञाइ उमिर ईअं न गवाइ
रामु जपि तूं श्यामु जपि तूं

कर दुखियनि बुखियनि जी तूं शेवा
तोखे मालिक ॾींदो मिठिड़ा मेवा
कर सोदो सचो कर कर्म न कचो
इहा तो मां जी छिकताण छॾि तूं
रामु जपि तूं श्यामु जपि तूं

हथ ख़ाली खणी जॻ में आएं
हथ ख़ाली करे जॻ मां वेंदें
कर शेवा सची वञु रंग में रची
‘निमाणीअ’ ते नज़र कर दानु पुञु तूं
रामु जपि तूं श्यामु जपि तूं