भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम आरो कृष्ण के भी जनैवाली धरती ई / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राम आरो कृष्ण के भी जनैवाली धरती ई
कतनै जुगेॅ सें आन-बान केॅ बचैलकै।
राणा आ शिवा पेॅ नाज करी-करी बरसेॅ सें
आशा राखी पूत लाख लाखों केॅ जनलकै।
शश्वतोॅ यें लाज-बीज घोर कलिकाल में भी
यही सोची ताज-तजी देबॉ केॅ मनैलकें।
ताही जननी केॅ दुष्ट पापी हाथें सोंपै हेनोॅ
पूत पाप कहेॅ माता केना केॅ जनलकै॥