भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम भजन करु भाई, दिनवा बीतल हो जाई / ताले राम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राम भजन करु भाई, दिनवा बीतल हो जाई।। टेक।।
साव किहाँ दरब ले आएलो, सूद पर देली लगाई,
सूदवा हान भेल एहि जग में, घरहुँ के मूढ़ गँवाई।। 1।।
अएतन साहो कहब कछु काहो, रहबौ मन सकुचाई
त्राहि त्राहि कहि गिरबों चरन पर, पत रखिहैं रघुराई ।। 2।।
राम भजे से सब बन जाई, निरधनिया धन खाई
कहे तोले सुन गिरधर योगी, दिन बीतल हो जाई ।। 3।।