भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राष्ट्रिय चरित्र / केदारमान व्यथित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


स्वार्थ मात्र पूरा हुने भए
एकले दोस्राको पिठयूँमा
छुरा घस्न
आपसमै तँछाड-मछाड गरिरहने
राष्ट्रिय चरित्र हाम्रो
अत्यन्त उदात्त छ ।