भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रिणु ऐं पाण / हरीश वासवाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रिणु हुजे या दरियाहु
को किनारो, का हद, मिली वञणु
ई राह आहे
ज़रा पाणीअ जा हुजनि या रेत जा
जे लुढ़ी लोथु थियणो आहे
या सड़ी काठु थियणो आहे
त आदि ई काफ़ी आहे
कंहिं अन्त खे ॻोल्हण लाइ
मैलनि जे सफ़र जो कहिड़ो मतलबु?
”उहा त -हून्दो’ खे आहे।“
ऐं ‘आहे’ खे ‘हो’ में बदिलण जी
व्याकरणी कसरत आहे
जंहिं खे कंहिं बि ॿिये नोअ में
जीनथो सघिजे।

रिण में राह ॻोल्हण लाइ
मूं समुंड खे पने जियां फ़ोल्ड करे
ॿिनि हिस्सनि में विरहाए छॾियो
रस्तो सिधो सिधो खेंचिबो पिए वियो
नको ॿि-वाटो, नको टि-वाटो
नको चौ-वाटो
सामुहूं सिज जो माया ॼारु हो
जंहिं रेत ऐं पाणीअ जो फ़र्कु
खाई ख़तम करे छॾियो हो
सभु आवाज़ बे-आवाज़ बणिजी विया हुआ
मुकमल निर्जीव।
(...पघर जो फुड़ो किरे
त बि इंद्रियूं बुधी वठनि...)
मथे उभ में हिक
भिटिकियल ककिरी
ॻिझ जियां पंख फहलाए उस में
सेकिजी रही हुई
मां हेठि इन जे बि छांव जे आसरे लाइ
डुकी रहियो होसि
कांव जे अखि जियां
जॾहिं मुंहिंजी बि अखि निकिरी आई
वारीअ जो हिकु एवज़ी गॾियो
जंहिं चयो:
अॻियां रिण तरफ़
पोयां पाण तरफ़
क़दम दर क़दम
मां पाण खां छॾाइजी रहियो होसि
क़दम दर क़दम
रिणु मूंखे छॾे रहियो हो।
घॿिराइजी मूं तरफ़ु बदिलाए छॾियो
तॾहिं ‘रिणु’ मां बणिजी वियो
ऐं ‘मां’ रिणु थी वियुसि।