भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रिश्ता-ए-उल्फ़त को तोड़ूँ किस तरह / रंगीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रिश्ता-ए-उल्फ़त को तोड़ूँ किस तरह ?
इश्क़ से मैं मुँह को मोड़ूँ किस तरह ?

पोंछने से अश्क के फ़ुर्सत नहीं,
आस्तीं को मैं निचोड़ूँ किस तरह ?

बाद मुद्दत हाथ आया है मिरे,
अब ददा मैं उस को छोड़ूँ किस तरह ?

वो लगाता ही नहीं छाती को हाथ,
अपनी छाती मैं मरोड़ूँ किस तरह ?

शीशा-ए-दिल तोड़ कर ’रंगी’ मिरा,
अब तू कहता है मैं जोड़ूँ किस तरह ?