भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रुँदैछु म गैरी खेतमा / बुद्धवीर लामा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रुँदैछु म गैरी खेतमा तिमी परदेशमा
सपनीमा मात्रै आउँछौ नौलो नौलो भेषमा

आज बिहान डाले कौवा किन करायो
कस्तो खबर आउँछ भनी यो मन डरायो
पीरै पीरले जिन्दगीमा दूख सागर
तिमी बिना छैन मलाई हाँस्ने रहर

फुरफुरायो दाहिने आँखा सोच्न कर लाग्यो
हुलाकीले ल्याको चिठी खोल्न डर लाग्यो
खोलुँ भने सधैंलाई साइनो टुट्ने हो कि
नखोलुँ त कलेजोमा घाउ दुख्ने हो कि

शब्द - वुद्धवीर लामा
स्वर - कुन्ति मोक्तान
संगीत - शीला बहादुर मोक्तान