भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूपजी : दो / पवन शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीपळ रै गट्टै ऊपर
बैठ्या रूपजी
जद बात सुणावै
हुंकारो देवै गाम
पंचां बिचाळै
बैठ
बात रो तोड़ काढ़’र
करै जद न्याव
हुंकारो देवै राम
पण रूपजी
जद आपरी
आंतड़ी री
पीड़ गावै
तो गाम-राम
खा पी’र
सो जावै।