भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूपैया / हरिवंशराय बच्चन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(उत्तरप्रदेश के लोकधुन पर आधारित)

          आज मँहगा है,सैंया,रुपैया.
रोटी न मँहगी है,
लहँगा न मँहगा,
          मँहगा है,सैंया,रुपैया.
          आज मँहगा है,सैंया,रुपैया.
बेटी न प्यारी है,
बेटा न प्यारा,
          प्यारा है,सैंया,रुपैया.
          मगर मँहगा है,सैंया,रुपैया.
नाता न साथी है,
रिश्ता न साथी
          साथी है,सैंया,रुपैया.
          मगर मँहगा है,सैंया,रुपैया.
गाना न मीठा,
बजाना न मीठा,
          मीठा है,सैंया,रुपैया.
          मगर मँहगा है,सैंया,रुपैया.
गाँधी न नेता,
जवाहर न नेता,
          नेता है,सैंया,रुपैया.
          मगर मँहगा है,सैंया,रुपैया.
दुनियाँ न सच्ची,
दीन न सच्चा,
          सच्चा है,सैंया,रुपैया.
          मगर मँहगा है,सैंया,रुपैया.
          आज मँहगा है,सैंया,रुपैया.