भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेत होते सपने / रवि पुरोहित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दोनों ने मिल
मनोयोग से
बनाया
रेत का घरौंदा

उफ़ान आया
तभी नदी में
और ध्वस्त हो गए
सारे सपने !

राजस्थानी से अनुवाद: स्वयं कवि द्वारा