भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रेशम री डोर / नीलम पारीक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक
रेशम री डोर
बन्धी ही
थारे म्हारे बिचाले
टूट न जा कदे
सोचते ई लागतो डर
पर तू
डोर रो एक एक तार
अपने ई हाथां
धीरे धीरे
माँ ई माँ
निर्दयता सूं
अइयाँ
टूक टूक कर नाख्यो
के आज जद
तोड्यो आखिरी तार
तो दरद तो होयो
पर बितनो नई
जितनो सोच्यो हो
कोटि कोटि धिनबाद
थाने