भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रै चुन्दड़ी तेरा जुलम कसीदा / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रै चुन्दड़ी तेरा जुलम कसीदा।
कुण सै महीने बोल्लै मोर पपीहा कबसी चमकै सीसा
रै चुन्दड़ी तेरा जुलम कसीदा।
सामण महीने बोल्लै मोर पपीहा फागण चमकै सीसा
रै चुन्दड़ी तेरा जुलम कसीदा।
कौण सी नणद नै काढ्या सै कसीदा कौणसी ने गोद्या सीसा
रै चुन्दड़ी तेरा जुलम कसीदा
छोटली नणद ने काढ्या सै कसीदा बडली नै गोद्या सीसा
रै चुन्दड़ी तेरा जुलम कसीदा।