भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोजे सुती उठी घोॅर ऐंगना बुहाड़ी फनूं / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोजे सुती उठी घोॅर ऐंगना बुहाड़ी फनूं
नीपी पोती भनसा केॅ चूल्हा सुलगाना छै।
लक्ष्मी दुआरी पर बान्हली ओहारी वर
सानी पानी करी फनूं दूध दुहवाना छै।
रोपनी के खान-पान खेती के सारा समान
साजी बाजी एक साथ खेत भेजवाना छै।
थकी-हारी साँझ बेला अइतै हुनी अकेला
डैढ़िया पे ठाढ़ रही देखी मुसकाना छै॥