भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोहिताश्व अस्थाना / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शिक्षा: डॉ रोहिताश्व अस्थाना ने गजलों पर पहला शोध किया है उनके लिखे साहित्य पर
लखनउ विश्वविद्यालय सहित अनेक विश्वविद्यालयों में शोध हो रहे हैं
 
प्रकाशन:

  1. ‘जल तरंग बजते हैं’ (प्रणय गीत संग्रह),
  2. ‘माँझी’, ‘जय इंदिरा’ (खण्डकाव्य),
  3. ‘माटी की गंध’, ‘चाँदी की चूड़ियाँ’ (उपन्यास) और
  4. ‘बाँसुरी विस्मित है’ (हिन्दी ग़ज़ल संग्रह)।

 हिन्दी ग़ज़लों पर उन्होंने

  1. ‘हिन्दी ग़ज़ल : उद्भव और विकास’ नाम से सबसे पहला शोध-ग्रंथ भी लिखा है।
  2. बाल साहित्य में भी उनके रचनात्मक योगदान पर काफी चर्चा हुई है। हिन्दी व अंग्रेजी की पत्र-पत्रिकाओं में साक्षात्कार, कहानियाँ एवं कविताएँ प्रकाशित।