भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

रोहेण बाई थारी कोठरी हो माता / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रोहेण बाई थारी कोठरी हो माता,
अगर रह्यो महेकाय।
कि हो गन्धीड़ो बसी गयो,
की हो फूली फुलवाड़ी।
नहीं हो गन्धीड़ो बसऽ म्हारी सई हो।
नहीं हो फूली फुलवाड़ी,
आया चन्द्रमा राजा, बठ्या म्हारी कोठरी,
अगर रह्यो महेकाय।