भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रो-रो के हँसना है ज़िन्दगी / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रो-रो के हँसना है जिंदगी
काय तेरा कहना है जिंदगी

काँटों के बीच किसी फूल-सा
खिलना-महकना है जिंदगी

जैसे पहाड़ों में दौड़ता
गीतों का झरना है जिंदगी

हारी बिसातें सहेजकर
बाजी पलटना है जिंदगी

मौत एक हकीकत है छूठ है
सच जो है, सपना है जिंदगी

‘मिशरा’ हदों की न बात कर
हद से गुजरना है जिंदगी