भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रौशनी है, तो झिलमिला कर देख / मधुप मोहता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रौशनी है, तो झिलमिला कर देख
और हंसीं है तो खिलखिला कर देख

मैं तेरी धुन हूँ ,गुनगुना मुझको
हौसला है तो दिल लगा कर देख.

नशा है तो सर पर चढ़ कर बोल
गर है कातिल तो मुस्कुरा कर देख

साथ रहना है तो परछाईं बन जा
भूल जाना है, तो ख्वाब बन कर देख

रात है तो पार चाँद के चल साथ
तू सहर है तो मुझे घर आ कर देख

हाँ, हवा है तो सांस सांस में बस
बहता पानी है तो सुलगा कर देख