भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रौशनी होने लगी है मुझ में / रउफ़ 'रज़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रौशनी होने लगी है मुझ में
कोई शय टूट रही है मुझ में

मेरे चेहरे से अयाँ कुछ भी नहीं
ये कमी है तो कमी है मुझ में

बात ये है कि बयाँ कैसे करूँ
एक औरत भी छुपी है मुझ में

अब किसी हाथ में पत्थर भी नहीं
और इक नेकी बची है मुझ में

भीगे ल़फ़्जों की ज़रूरत क्या थी
ऐसी क्या आग लगी है मुझ में