भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लंगोटी लगाने से जटा के बढ़ाने से / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लंगोटी लगाने से, जटा के बढ़ाने से,
               स्थान बड़ा पाने से बन बैठे भूप है |
विद्वान् बनने से, मन में यू तनने से,
               नाहीं उद्धार होत छाया कहीं धूप है |
निज में ना ज्ञान होत बने बने फिरते भोत,
          आत्म दिव्य ज्योति कहाँ, जोत वो अनूप है |
कहता शिवदीन राम बाने को नमस्कार,
             साधू संत राम रूप एक ही स्वरूप है |