भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लईकन के फैशन / कुंज बिहारी 'कुंजन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहिया से अंखियन के दुनो बौल हो गइल फ्यूज
रास्ता चलत जपत चलीला प्लीज प्लीज एक्सक्यूज
प्लीज प्लीज एक्सक्यूज करत बस में चढ़नी अकुता के
तब ले एक ठे बिटिया घुसल हमरा के धकिया के
चिकन-चिकन गाल छिट के लाल- लाल पहनावा
बड़ा जोर धकिआवे
एक त चले ना तनिको हावा
कहनी बाची होने जा खाली बा सिट जनाना
कहाँ धसोरत अईबू हेने कुल बाडन मरदाना
सुन के आंख तरेरलस पिछवा मुड़ के बघुआइयल
अपना जाने गरजल बाकि बकरी अस मिमिआइल
कहलस बुढा आफ हुआ माइंड है
लईका को लईकी बुझता पूरा का ब्लाइंड है