भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लछुमन रेखा के भितरिये कैद हमार जिनिगिया ना / सुभद्रा वीरेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लछुमन रेखा के भितरिये कैद हमार जिनिगिया ना।
छलना आई भेस बदलि, छलि-छलि जाई उमिरिया ना।।
हम ना केकरो आँख क पुतरी
राखीं बक्सा ना हम मुनरी
दरखत खानी टुक्-टुक् ताकीं भोर-साँझ-दुपहिया ना।
सहमि-सहमि क चले सपनवाँ
बिखरल मोती बीनि नयनवाँ
काँटन से अझुराइल खींचे मोर चुनरिया ना।
मन-दरपन कब दरकि क टूटल
आस क गगरी चटकी क फूटल
गहराइल अन्हियारी राति अकुलाइल अँजोरिया ना।
राख में ह सुनगत चिनगारी
उमकि गइल रहिये किलकारी
जमघट बीच अकेला मनवाँ अउँजाइल दरदिया ना।।