भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लबों पे ये हल्की सी / कुलवंत सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लबों पे ये हल्की सी लाली जो छायी।
हमारी है लगता तुम्हें याद आयी॥

ख़ुदा ने नवाज़ा करम से है हमको,
हमारी इबादत है उसको तो भायी।

हथेली पे सच रख मै चलता हूँ लेकर,
न भाती जहां को ये सच से सगाई।

ज़मीं है भरी पापियों के कदम से,
कहाँ है ख़ुदा जिसने दुनिया बनाई।

बशर हर यहाँ बोल मीठा ही चाहे,
भले चाशनी में हो लिपटी बुराई।

हमें कह के अपना न तुम यूँ सताओ
चले जाते तुम हमको आती रुलाई।

गिरे शाख से फूल जब कोई टूटे,
जुड़े कैसे कुलवंत जग हो हंसाई।