भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लब-ए-इज़हार पे जब हर्फ़-ए-गवाही आए / सब्त अली सबा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लब-ए-इज़हार पे जब हर्फ़-ए-गवाही आए
आहनी हार लिए दर पे सिपाही आए

वो किरन भी तो मिरे नाम से मंसूब करो
जिस के लुटने से मिरे घर में सियाही आए

मेरे ही अह्द में सूरज की तमाज़त जागे
बर्फ़ का शहर चटख़ने की सदा ही आए

इतनी पुर-हौल सियाही कभी देखी तो न थी
शब की दहलीज़ पे जलने को दिया ही आए

रह-रव-ए-मंज़िल-ए-मक़्तल हूँ मिरे साथ ‘सबा’
जो भी आए वो कफ़न ओढ़ के राही आए