भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लरज़ लरज़ के न टूटें तो वो सितारे क्या / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लरज़ लरज़ के न टूटें तो वो सितारे क्या
जिन्हें न होश हो ग़म का वो ग़म के मारे क्या

महकते ख़ून से सहरा जले हुए गुलशन
नज़र-फरेब हैं दुनिया के ये नज़्जारे क्या

उम्मीद-ओ-बीम की ये कशमकश है राज़-ए-हयात
सुकूँ-नवाज़ हैं इस के सिवा सहारे क्या

कोई हज़ार मिटाए उभरते आए हैं
हम अहल-ए-दर्द जुनून-ए-जफ़ा से हारे क्या