भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लहर-लहर आवार्गियों के साथ रहा / सरवत हुसैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लहर-लहर आवार्गियों के साथ रहा
बादल था और जल-परियों के साथ रहा

कौन था मैं ये तो मुझ को मालूम नहीं
फूलों पŸाों और दियों के साथ रहा

मिलना और बिछड़ जाना किसी रस्ते पर
इक यही क़िस्सा आदमियों के साथ रहा

वो इक सूरज सुब्ह तलक मिरे पहलू में
अपनी सब नाराज़गियों के साथ रहा

सब ने जाना बहुत सुबुक बेहद शफ़्फ़ाफ़
दरिया तो आलूदगियों के साथ रहा