भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लागी लगी रे दुई दुई हाथ मेहँदी रंग लागी / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लागी लगी रे दुई दुई हाथ मेहँदी रंग लागी ,

मेहँदी तोडं न ख हाउ गई न म्हारो, छोटो देव्रियो साथ मेहँदी रंग लागी ।

तोडी ताडी न मन खोलो भर्यो न हउ लगी गई घर की वाट मेहँदी रंग लागी।|

अगड दगड को लोय्डो न ब्र्हन्पुर की सील मेहँदी रंग लागी |

लसर लसर हउ मेहँदी वाटू न म्हारा बाजूबंद झोला खाय मेहँदी रंग लागी |

देवर रंग तीची अन्गालाई न हउ रंगु ते दुई हाथ ,मेहँदी रंग लागी |

द ओ जेठानी थारो झुमकों न द ओ देरानी थारो हार मेहँदी रंग लागी

द ओ पडोसन थारो दिव्लो न ,द ओ अडोसन तेल मेहँदी रंग लागी |

खट खट खट हउ पैडी चढ़ी न गई ते तीजजे मॉल मेहँदी रंग लागी

जगेल होता तेका सोई गया न मुख पर डाल्यो रुमाल मेहँदी रंग लागी

अग्न्ठो पकडी न मन स्यामी ज्गाद्योअसो नही जाग्यो मुर्ख गंवार मेहँदी रंग लागी

खट खट खट हउ पैडी उतरी न आई ते नीच मॉल मेहँदी रंग लागी

ल ओ जेठानी थारो झुमकों न ,ल ओ देरानी थारो हार मेहँदी रंग लागी |

ल ओ पडोसन थारो दिव्लो न ल ओ अडोसन थारो तेल मेहँदी रंग लागी

असो देवर बताव ओकी माय ख न हउ केख बताऊ बेऊ[दुई] हाथ मेहँदी रंग लागी |

असी सासु की कुख ख हीरा जडया न ,जाया ते हीरालाल मेहँदी रंग लागी|

लागी लागी रे दुई दुई हाथ मेहँदी रंग लागी