भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाठी हो यदि हाथ में / त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाठी हो यदि हाथ में, तो यह समझें आप।
दूर रहेंगे आपसे, कितने ही संताप॥
कितने ही संताप, आपदा जायें घर से।
औरों की क्या बात, भूत भी भागें डर से।
'ठकुरेला' कविराय, गज़ब इसकी कद काठी।
झुक जाए बलवान, सामने हो जब लाठी॥