भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाडो मँगणा हो / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लड़की की इच्छाएँ

लाड्डो मँगणा हो सो माँग

राम रथ हाँक दिए।

मैं तो माँगूँ अयोध्या का राज

ससुर राजा दशरथ से ।

लाड्डो मँगना हो सो माँग

राम रथ हाँक दिए।

मैं तो माँगूँ कौशल्या –सी सास

देवर छोटे लछमन से ।

लाड्डो मँगना हो सो माँग

राम रथ हाँक दिए।

मैं तो माँगूँ श्रीभगवान

पलंगों पै बैठी राज करूँ ।

लाड्डो मँगना हो सो माँग

राम रथ हाँक दिए।