भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लापरवाही / मथुरा नाथ सिंह 'रानीपुरी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

केकरऽ कहाँ यहाँ के सूनै
ई अनसैलऽ बात
देखऽ सच कानै-कपसै छै
झूठें मारै लात।

तेबर चढ़ै छै सुनत्है फुसफुस
कहतैं करै आघात
भला कहऽ कहिया मौजऽ के
के बाँटतै जजवात।

गुमसुम कतेॅ ई गुमसैलऽ
दिन रहतै की रात
गरजी-भूकी धुंध मिटावऽ
ई बदली बरसात।

अड्डा-गड्डा टुटै क्यारी
के बंधन सब घात
बिना उछलनें की मन ‘मथुरा’
मिटलै कौरब तात?