भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लामणु लान्दरिय किति लामण जाणे / गढ़वाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लामणु लान्दरिय[1] किति[2] लामण जाणे,
डोडी[3] के भित्तर किती फीमेर दाणे[4]
लाऊँ[5] लामण, लाऊँ देवोरा बुंगा,
कोई शुण टीर कोई शुण वाडवा तुंगा।
लाऊँ लामण जाण कीणई जाला

शब्दार्थ
  1. गानेवाली
  2. कितने
  3. पोस्त
  4. दाने
  5. गाऊं