भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाले पड़े हैं जान के जीने का एहतमाम कर / अमीन हज़ीं

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाले पड़े हैं जान के जीने का एहतमाम कर
जिन में हो कैफ़-ए-ज़िंदगी बहर-ए-ख़ुदा वो काम कर

तौर-ए-हयात से उड़ा जज़्बा-ए-ज़ीस्तन की आग
जब कहीं जा के नीयत-ए-ज़िंदगी दवाम कर

पहले ये सोच दाम के तोड़ने की सकत भी है
बाद को दिल में ख़्वाहिश-ए-दान-ए-ज़ेर-ए-दम कर

तुझ को तेरी ही आँख से देख रही है काएनात
बात ये राज़ की नहीं अपना ख़ुद एहतराम कर

हैफ़ समझ रहा है तू अपनी झिजक को मुहतसिब
मय-कदा-ए-हयात में शौक़ से मय-ब-जाम कर

नक़्श नवी नहीं है तू सफ़्हा-ए-रोज़-गार पर
मिटने से गर नहीं मफ़र मिट ही के अपना नाम कर

बंदा-ए-ख़्वाहिशात को कहता है कौन अब्द-ए-हुर
चाहिए हुर्रियत अगर दिल को ‘अमीं’ गुलाम कर