भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लिछमी / हरीश हैरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नवी बीनणी
घर में आंवतै बगत
पगथळी में
धान सूं भरयोड़ै
कुल्हडिये रै
पग री ठोकर लगाई
खिंडेङै धान नै देख'र
लुगाईयां केवै ही
लिछमी आई है!