भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोकतंत्र / शैलेन्द्र चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चीत्कार ! हाहाकार !

भयातुर आँखें !


सिसकती सभ्यता
संस्कृति है कराहती


प्रसन्न और संतुष्ट हैं
चिकने धूर्त राजनयिक
तुंदियल, भ्रष्ट,
व्याभिचारी राजनेता


इसीलिए

लोकतंत्र स्वस्थ है ?