भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोक गीत-लहलह लहरै / धीरज पंडित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लह-लह लहरै-लहऽरै बाली
हमरोॅ खेतो के आरी लहरै बाली।

माघ महीना गोछियैलोॅ रंग साड़ी
सुन्नर-सुन्नर सजइलोॅ धारी
दूरोॅ सेॅ झलकै छै जेकरोॅ किनारी
लहरै बाली, हमरोॅ खेतोॅ के आरी। लहरै बाली।

चललै किसान लेॅ केॅ कचिया कुदारी
बान्ही ”केॅलौआ“ सब खेतवा के ओरी
फुदुर-फुदुर फुदकै छै आरी-कछारी
लहरै बाली, हमरोॅ खेतोॅ के आरी। लहरै बाली।

फसलोॅ के देखी भरै छै किलकारी
गोरी के मानो सुरतिया निहारी
गावै ई ”धीरज“ दिन खुशी के बिचारी
लहरै बाली-हमरोॅ खेतोॅ के आरी। लहरैबाली।