भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोगों का कहना है घर से बाहर ही चल / विजेन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लोगों का कहना है घर से बाहर ही चल
फिरकर देखो उनिया कैसी है। कितने रंग
भरे हैं चित्रों में। किल-बिल सब गलियाँ हैं तंग
अँधोरियों से भरा जिस्म है। मची है हलचल।

घर में ही बैठे रहने से क्या है, आओ
कभी उधर आओ - प्रेस क्लब, कॉफ़ी हाउस में
भी तो आकर बैठो। पत्रकार, कवि आपस में
मिलते-जुलते हैं। वहाँ का सच भी तो पाओ

जीवन में। क्या करते हो आक-धतूरे की
बातें। उधर क्या धरा खेतों-वेतों में, वह
सब पिछड़ी दुनिया है। अधुनातन है अब यह
थोड़ा ’सिप’ करके देखो। ढलते जीवन की

कली खिलेंगी। हवा उधर की भी खाओ
मिल-जुलकर चलो सभी से, भारी यश पाओ।