भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोग / सौरभ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जानते हुए भी मुकर जाते लोग
ऐसा कमाल क्यों दिखाते लोग
देख कर भी हमें नहीं देखते
वक्त पर अँधे हो जाते लोग
वक्त पड़ने पर कुछ भी करते हैं
स्वाभिमान क्यों भूल जाते लोग
ऊँचा उठने के लिए मिट जाते लोग
ऐसा कमाल क्यों दिखाते लोग
कभी गधे पर बरसाते हैं डँडे
कभी उसे बाप बना लेते लोग
ऐसे दोगले क्यों हो जाते लोग
थोड़ा मिलने पर ज्यादा दर्शाते लोग
जरूरत पर दाँत फिचकाते लोग
ऐसा खेल क्यो दिखलाते लोग।