भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोरी / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खिली चाँदनी गोरी-गोरी,
सो जा मेरे नन्हे वीर।
अम्माँ तेरी गाए लोरी,
सो जा मेरे नन्हे वीर!

पिंजरे भीतर मिट्ठू सोया,
और खा-पीकर कुत्तू सोया,
सोई चूँ-चूँ चिड़िया रानी,
सोए राजा रंक, फकीर।
सो जा मेरे नन्हे वीर!

गंगा सोई, जमुना सोई,
और छोटी-सी बहना सोई,
बांदर सोए, पातर सोए,
सोई दुनिया भर की भीर।
सो जा मेरे नन्हे वीर।