भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लोहे का घर: छह / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
हर रोज़ सुबह
याद से
रेल की खिड़की से झाँकते
मुसाफिरों की ओर देखकर
अपना हाथ हिलाता है वह
 
बावज़ूद
पूरी रेल में
उसका अपना कोई नहीं होता।