भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लो प्रिये! मुक श्री मनोरम / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  लो प्रिये! मुक श्री मनोरम


लो प्रिये! मुक श्री मनोरम

देखते जो तृप्त होकर

देखते करुबक मदिर नव

मंजरी का रूप क्षण भर

कामशर में व्यथित होते

कुसुम से बर दीप्त किंशुक

राशि नव ज्वाला शिखा-सी

लो कि अब सुखमय विकंपित

मलय से,आरक्त चंचल

रक्त वसना नववधु सी

वसुमती दिखती सुनिर्मल

प्रिये मधु आया सुकोमल!