भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लौंदड़ बड़ी हटेलू / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लौंदड़ बड़ी हटेलू
या चम्फा घाट घटेलू
या लौंदड़ बड़ी रे हटेलू।।
या चम्फा करत नहाय रे
या लौंदड़ बधत नहाय रे।।
हमरा भैया का आँगन
इमली को झाड़
वा ते करना दारी
चहेंगी छेण्डा डार
ओ ओ घंगरा ते ज्यू
अटक्यों बीचऽ डार
दारी का जीवन का जोबनऽ
हो गया चिन्धा चार
ओ का घर को सैय्या
गयो बनवास
दारी का पोर्यापारी
हो गया दानो दानऽ