भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लौटा दिया शहर ने / शिवशंकर मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लौटा दिया शहर ने, वापस
गाँव नहीं ले!

घर अपना है, सब अपने हैं,
फिर भी सब ही तने- ठने हैं,
कोने- कोने अलग बने हैं;
हर खिड़की की भौंह चढ़ी है,
कसे हुए मुँह दरवाजों के,
जबड़े ढीले!

पढ़- लिखकर बेकार गए हो,
बैठे- बैठे प्राण गए रो,
लड़-लड़कर थक-हार गए तो;
कहीं नहीं पहचान शेष कुछ,
गहरे बने गढ़े, या, केवल
ऊँचे टीले!