भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वक़्त भी सजदा करता है / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक़्त भी सजदा करता है
सच का कितना रुतबा है

ये दरिया जो सूखा है
अपने भीतर डूबा है

नींव नहीं ढहती है कभी
कलश, कंगूरा ढहता है

फूँक से आग भड़कती है
मगर दिया बुझ जाता है

मंदिर पर भी पहरे हैं
ईश्वर किससे डरता है

जब भी काँटे चुभते हैं
'हस्ती' मन में हँसता है