भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वक्त सां वहिंवारु करिणो थो पवे! / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वक्त सां वहिंवारु करिणो थो पवे!
चोरु चौकीदारु करिणो थो पवे॥

हींग खे भी राॻु मञिणो थो पवे।
ॾाढे ख़र सां प्यारु करिणो थो पवे॥

ख़तु मिले क़ातिल जी धमिकीअ जो जॾहि।
सच खां भी इन्कारु करिणो थो पवे॥

‘हा’ में ‘हा’ करिणी पवे थी सेठि सां।
पेट जो आचारु करिणो थो पवे॥

खिटि-पिटियो आ शख़्सु मुंहिंजे जीअ जो।
हुन ते हर-हर वारु करिणो थो पवे॥