भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वनोॅ मेॅ वसंत / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

महुआ के फूलों रोॅ मादक सुगंध
लता कुंज के बीचोॅ सेॅ
छनी-छनी केॅ आवी रहलोॅ
सुरूजोॅ रोॅ किरिन
राजमहल के पहाड़ी वालासिनी रोॅ
पायलोॅ के मादक झनकार
गाछ के छाया मेॅ पक्षी के कलरव
कोयल रोॅ कूक, भौंरा रोॅ गुंजन
पहाड़ी नद्दी, झरना, रोॅ कल-कल संगीत
जंगल, झाड़ी, झुरमुठ मेॅ पललोॅ
आरेा काँटोॅ मेॅ खिललोॅ अनामिका
होकरा पेॅ हँसी रहलोॅ सौ-सौ बसंत।
एक वनफूल सेॅ शरमाय छै
राजमहल पहाड़ी के शकुन्तला।
राजवतरिका के गुलाब सेॅ
राजमहल जंगल के कचनार छै सुन्दर।