भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वर्तमान के आँसू / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पोर-पोर में दर्द निमोही
एक गीत में बाँधूँ कैसे ?

अपराधी बचपन की सज़ा मिली यौवन को
दया न आई तेरे न्यायाधीश नयन को
बोलो ! वर्तमान के आँसू
अब अतीत में बाँधूँ कैसे ?

अब तो लगता है हर दिन दर्द का जन्म-दिन
हँसी फूल की चुभती है जिस तरह आलपिन
घायल अन्तर का सूनापन
हार-जीत में बाँधूँ कैसे ?