भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वलय / किरण अग्रवाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उसने कहा - वापस लौट जाओ
मैंने कहा - नहीं लौटूंगी
उसने कहा - ठोकर खाओगी
मैंने कहा - तैयार हूँ
वह चुप हो गया
मैं बोलती रही
वह वलय में खो गया
मैं उसे ढूँढ़ती रही
और एक दिन मैंने पाया
कि वह मेरे भीतर-बाहर चारों ओर है
व्याप्त है हर धड़कन में
छूता है मुझे
बतियाता है मुझसे
मेरा सबसे अधिक अपना है।