भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसंत का गीत / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऋतुओं के राजा,
वसंत महाराजा!
कुरता नया एक
हमें भी दिला जां

कपड़े पुराने ये
हमको न भाएँ
किस-किससे अपना ये
मुखड़ा छिपाएँ?
बात शरम की है
आ जा, अब आ जा।

फागुन महीना,
उदासी है छाई,
भूखा बिछौना है
प्यासी रजाई,
आँखों से निंदिया
उड़ाकर यूँ न जा।

तुमको नहीं है
कमी कोई प्यारे,
नदियाँ, हवा, पेड़
सब हैं तुम्हारे,
सपने हमारे भी
आकर सजा जा।
ऋतुओं के राजा,
वसंत महाराजा!